0751-4901333

खेल

अंबाती रायुडू की जगह सुरेश रैना भारतीय टीम में शामिल रोहित शर्मा रविवार को नेशनल क्रिकेट एकेडमी में यो-यो टेस्ट देंगे।


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Ram swaroop rajak    2018-06-17  

बेंगलुरु। रोहित शर्मा रविवार को यो-यो टेस्ट देंगे। इंग्लैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज से यो-यो टेस्ट में फेल होने के बाद हटे अंबाती रायुडू की जगह टीम में सुरेश रैना को शामिल कर लिया गया है। रोहित रूस में होने के कारण 15 जून को यो-यो टेस्ट में शामिल नहीं हुए थे। बीसीसीआइ के जीएम (क्रिकेट ऑपरेशंस) सबा करीम ने कहा कि रोहित ने 15 जून को टेस्ट नहीं देने के लिए अनुमति ली थी। ऐसा कोई नियम नहीं है कि टेस्ट तय समय पर ही हो। ऐसे में वह रविवार को टेस्ट देंगे। उन्होंने कहा कि रायुडू का टेस्ट में फेल होना चौंकाने वाला था, वो भी तब जब उन्होंने IPL के सफल सत्र में 602 रन बनाए हैं। उन्होंने कहा था कि चयनकर्ता और टीम प्रबंधन रायुडू के विकल्प पर सोच विचार कर रहा है। इसके लिए कम से कम पांच विकल्प जरूर देखने होंगे। एमएस धोनी और दिनेश कार्तिक दोनों टीम में हैं। ऐसे में देखना होगा कि आईपीएल की जबरदस्त फार्म को देखते हुए रिषभ पंत को टीम में मौका मिलेगा। अगर केदार जाधव भी सौ प्रतिशत फिट नहीं होते हैं, तो फिर सुरेश रैना या फिर कृणाल पांडया में से किसी एक को भी मौका मिल सकता है। रैना के पास 200 वनडे खेलने का अनुभव है, ऐसे में वह कृणाल या मनीष पांडे की जगह टीम प्रबंधन की पहली पसंद हो सकते हैं। इसके बाद सिलेक्टर्स ने सुरेश रैना को टीम में चुन लिया। पूर्व भारतीय ओपनर और क्रिकेट समीक्षक आकाश चोपड़ा को भी लगता है कि रैना खराब विकल्प नहीं होंगे। चोपड़ा ने कहा कि विश्व कप 2019 को देखते हुए रैना को मौका मिलना चाहिए, क्योंकि हार्दिक पांडया आपके पांचवें गेंदबाज के रूप में होंगे, तो शीर्ष छह बल्लेबाजों को हाथ खोलने का मौका मिल सकता है। मैं रिषभ को भी टीम में देखना चाहता हूं, लेकिन धौनी और डीके के रहते यह मुश्किल है। वहीं पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज दीपदास गुप्ता को लगता है कि कृणाल या रैना में से किसी एक का चयन होना चाहिए। शिखर के अलावा मैं टीम में एक और बायें हाथ के बल्लेबाज को शीर्ष छह में देखना चाहता हूं। ऐसे में कृणाल या रैना को टीम में होना चाहिए। इसके पीछे मेरा कारण यह है कि हर टीम के पास एक लेग स्पिनर जरूर होता है, तो ऐसे में टीम में एक बायें हाथ का बल्लेबाज मध्यक्रम में होना बेहद आवश्यक है। उनकी खास बात यह है कि दोनों गेंदबाजी भी करा सकते हैं, लेकिन अगर केदार फिट होते हैं तो उनके अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाता है

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!