0751-4901333

पुष्पांजली टुडे न्यूज -- उत्तर प्रदेश में आतंकी मंसूबों को नाकाम करेंगे यूपी पुलिस के ब्लैक कमांडो​


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Pushpanjali Today    2017-09-25  

लखनऊ   -  आतंकवादियों के खतरनाक मंसूबों की धज्जियां उड़ाने और किसी भी तरह की अपराधिक घटना से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जिलों की ​स्वाट टीमों को हाईटेक ट्रेनिंग​ दी जा रही है। इस ट्रेनिंग के बाद यह ब्लैक कमांडों जिलों में तैनात रहकर आतंकी गतिविधियों पर अपनी चील जैसी नजर रखने के साथ ही किसी भी तरह की घटना होने पर एटीएस के पहुंचने से पहले तक घटना को पूरी तरह से कंट्रोल कर पाएंगे।

 

​एटीएस के निर्देशन में दी जा रही ट्रेनिंग​

 

आपको बता दें कि यूपी एटीएस खतरनाक ऑपरेशन्स को अंजाम देने, अपराध और आतंकवाद की घटनाओं पर कंट्रोल करने के लिए जिलों की स्वाट टीमों को प्रशिक्षित कर रही है। एटीएस का यह प्रशिक्षण ​स्वाट टीमों के लिए एक हार्ड ट्रेनिंग​ की तरह है जिसके बाद टीम के कमांडो किसी भी तरह की विषम परिस्थिति को कंट्रोल करने में सक्षम होंगे।यह ट्रेनिंग लखनऊ के अमौसी स्थित प्रशिक्षण केंद्र पर आयोजित की गई है। प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए आगरा, वाराणसी सहित कई जोन के स्वाट टीम के कमांडो ट्रेनिंग के लिए पहुंचे है। ​एससपी एटीएस इस प्रशिक्षण के डायरेक्टर​ हैं जिनके सर्विलांस में स्वाट टीमों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

 

​स्वाट टीमों को चार चरणों में ट्रेनिंग दी जा रही है-​

 

​1- बेसिक पुलिस  टैक्टिस​

 

​2-स्पेशल पुलिस टैक्टिस​ 

 

​3-फायर आर्म्स टैक्टिस​

 

​4- फिजिकल ट्रेनिंग​

 

जानकारी के मुताबिक, ​स्वाट टीमों को एटीएस के सीनियर एक्सपर्ट्स ट्रेनिंग देते हैं​जिसके तहत किसी बिल्डिंग या मॉल में कोई आतंकवादी घटना होने के दौरान कैसे जल्द से जल्द बिल्डिंग पर पहुंचे और जिस रूम में आतंकियों ने डेरा जमा रखा हैं, वहां पहुंच कर उन्हें सरेंडर करने के लिए मजबूर करने जैसी ट्रेनिंग दी जाती है।

 

​आधुनिक हथियारों से लैस होंगे कमांडो​

 

यही नहीं, इस तरह की एक्टिविटी के लिए स्वाट टीम को ​आधुनिक हथियारों से लैस​ किया जाता है जिसमें ​एमपी-4 (MP-4) और एके- 47 (AK-47) जैसे आर्म्स का इस्तेमाल​ होता है। ट्रेनिंग के दौरान स्वाट टीमों को ​बम निरोधक दस्ते की ट्रेनिंग से लेकर डायनामाइट और फॉग का दुश्मनों पर इस्तेमाल​ कर कैसे आतंकियों पर काबू पाया जाय इसकी भी ट्रेनिंग दी जाती है। आपको बता दें कि यह ट्रेनिंग काफी हार्ड होती है।

 

यूपी के कई जोन से आई स्वाट टीमों को रेड के तरीके और रूम इन्ट्री/तलाशी के तरीके, अपराधियों की गिरफतारी और हथकड़ी लगाने के तरीके आदि का ट्रेनिंग दी जा रही है। इन स्वाट टीमों को आधुनिक हथियारों से लैस भी किया जाएगा। जिसमें एमपी 5 आर्म्स सहित कई खतरनाक हथियार और आधुनिक टेक्नोलॉजी से लैस होंगे।

 

​ट्रेनिंग के बाद ये होगा फायदा​

 

एक महीने के प्रशिक्षण के बाद इन कमांडोज की लिखित एवं शारीरिक परीक्षा भी ली जाएगी। जिसके बाद जिलों की स्वाट टीम एटीएस की स्पॉट टीम की तरह आतंकवादी घटनाओं से निपटने के लिए तुरंत तैयार रहेगी। ट्रेनिंग के बाद ये टीमें जिले में किसी भी हाई रिस्क ऑपरेशन के लिए तैयार होंगी। बाहर से मदद पहुंचने तक ये हालात को संभालने में सक्षम होंगी। आतंकी घटनाओं से निपटने में भी मदद मिलेगी।

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!