0751-4901333

अजाक डीएसपी संतोष दमदोरिया का काला चरित्र हुआ उजागर


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Sunil Rajak    2018-07-01  

फरियादिया से अश्लील मांग कर किया वर्दी को भी कलंकित मोबाइल लगा कर करता था अश्लील बातें रक्षक ही भक्षक बन जाएंगे तो कहा मिलेगा न्याय -पीड़िता जांच करने का भरोसा दिलाया जिम्मेदारों ने खरगोन। खरगोन के निकटस्थ एक गांव की महिला ने अजाक डीएसपी संतोष दमदोरिया पर अश्लील बातें और अश्लील इशारे करने के गंभीर आरोप लगाए है। पीड़िता ने गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के नाम एक शिकायती आवेदन पत्र एडिशनल एसपी अंतरसिंह कनेश को सौप कर अजाक डीएसपी संतोष दमदोरिया पर कड़ी कार्यवाही की मांग की है। पीड़िता ने कहा कि आमजन पुलिस के पास मदद के लिए जाते है जब रक्षक ही भक्षक बन जाएंगे तो न्याय कैसे मिलेगा। पीड़ित ने बताया कि वह उसके साथ हुई छेड़खानी के प्रकरण में बयान देने अजाक डीएसपी कार्यालय गई थी। यहां डीएसपी ने उससे अश्लील बातें और अश्लील इशारे किये। यही नही महिला ने कहा कि डीएसपी बारबार कार्यालय बुलाकर अश्लील मांग करते रहे। वही डीएसपी दमदोरिया ने मुझे कई बार फोन कर अश्लील मांग की। पीड़िता ने डीएसपी द्वारा की गई अश्लिल बातो की आडियो सीडी भी शिकायत आवेदन के साथ सौपी है। वही पीड़ित के साथ कार्यालय पहुची एक अन्य महिला ने बताया कि डीएसपी दमदोरिया ने उससे भी छेड़छाड़ की जा चुकी है। पीड़िता की परिजन महिला ने बताया कि 2017 में एक मामले में वह बयान देने अजाक कार्यालय गई थी। मेरे साथ भी दमदोरिया ने अश्लिल बाते करते हुवे छेड़खानी की थी लेकिन पक्के सबूत नही होने के कारण वह शिकायत नही कर पाई। महिला ने कहा कि पुलिसवाले पुलिसवालों की ही मदद करते है पक्के सबूत के अभाव में शिकायत करती तो मुझे परेशान किया जाता इसलिए उस वक्त मनमसोस कर रह गई। महिला ने बताया कि इस बार मे बयान के लिए साथ मे गई थी मुझे बाहर बैठाकर मेरी परिजन पीड़ित के साथ कार्यालय में मौखिक और फोन पर अश्लील बाते और छेड़खानी के पक्के सबूत थे ।वह कह रहा था कि कब तक तड़पाओगी ? पीड़िता ने माना कि अजाक डीएसपी दमदोरिया बहुत ही खराब चरित्र का व्यक्ति है वह अन्य महिलाओं से भी शासन से मिलने वाली राशी दिलाने के एवज में अश्लील मांग करता होगा लेकिन सबूत के अभाव और लोकलाज के डर से महिलाए शिकायत नही कर पाती जिससे उसके हौसले बुलंद होते जा रहे है। महिलाओं ने अपनी जान का खतरा बताते हुए कहा कि हमनें सबूत के साथ शिकायत की है , डी एस पी संतोष दमदोरिया ने कार्यालय बुला कर मोबाइल की रिकार्डिंग डिलीट करने के लिए भी कॉल किया था । हम नहीं गए , हमे डर है कि हमारे द्वारा की शिकायत के बाद वह हमें नुकसान पहुँचा सकता है । इस मामले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंतर सिंह कनेश ने महिलाओं की बात को सुना और उनकी शिकायत को लेते हुए उनके द्वारा दी गई ऑडियो रिकॉर्डिंग की जांच कर जांच रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई करने की बात कही । वही जब इस मामले में DSPअजाक संतोष दमदोरिया से मिलने के लिए मीडिया उनके ऑफिस पहुंचे तो वहां ताला जड़ा नजर आया। हालांकि इस मामले में जांच के बाद पुलिस क्या कार्रवाई करती है , यह तो समय बताएगा । लेकिन पुलिस की वर्दी पर लगे यह आरोप कहीं ना कहीं पुलिस की वर्दी के पीछे छुपे ऐसे चरित्रहीन लोगों का चरित्र को उजागर करते हैं ।

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!