0751-4901333

देश

सफाई अभियान में देश के सवा सौ करोड़ लोगों का सहयोग चाहिए -- नरेंद्र मोदी


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Pushpanjali Today    2017-10-02  

पीएम ने यह भी कहा कि बिना जनभागीदारी के यदि एक हजार महात्मा गांधी और एक लाख नरेंद्र मोदी भी आ जाएं तो भी यह सपना पूरा नहीं हो सकता

 

नई दिल्ली। आज यानि 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के दिन पीएम नरेन्द्र मोदी के महत्वाकांक्षी स्वच्छता अभियान को तीन वर्ष पूरे हो गए। इस मौके पर पीएम ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि स्वच्छता के लिए समाज की भागीदारी बेहद जरूरी है, बिना समाज के आगे आए स्वच्छता अभियान कभी पूरा नहीं हो सकता। पीएम ने यह भी कहा कि बिना जनभागीदारी के यदि एक हजार महात्मा गांधी और एक लाख नरेंद्र मोदी भी आ जाएं तो भी यह सपना पूरा नहीं हो सकता।

 

सरकारी ढ़ांचे के बस में नहीं यह काम

 

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वच्छता अभियान को देश के लिए सबसे जरूरी बताते हुए लोगों से इससे जुड़ने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा अभियान है, जो लोगों की साझेदारी के बिना कभी पूरा नहीं हो सकता। प्रधानमंत्री ने कहा कि यदि एक हजार महात्मा गांधी आ जाएं, एक लाख नरेंद्र मोदी आ जाएं, सभी मुख्यमंत्री मिल जाएं, सभी सरकारें मिल जाएं, तो भी स्वच्छता का सपना कभी पूरा नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस अभियान की चाबी देशवासियों के पास है, यदि देश के सवा सौ करोड़ लोग मिल जाएं तो कोई ऐसा सपना नहीं जो पूरा न हो सकता है। पीएम मोदी ने इस अपने चिर-परिचित अंदाज में कहा कि यह कहने के बाद उनकी धुलाई हो सकती है, लेकिन देशवासियों के सामने यह तथ्य रखना जरूरी है।

 

गंदगी में हमारा भी योगदान

 

पीएम ने कहा कि तमाम आलोचनाओं और विरोध के बावजूद सरकार स्वच्छता अभियान को आगे ले जाने में कोई कसर बाकि नहीं छोड़ रही है। पीएम ने कहा कि अभियान शुरू करने के बाद तीन साल तक हमने पीछे मुड़कर नहीं देखा, क्योंकि हमे यकीन था कि बापू का दिखलाया हुआ रास्ता कभी गलत नहीं हो सकता। पीएम ने कहा कि स्वच्छता अभियान अब देश की जरूरत ही नहीं, बल्कि यह अब देशवासियों का अभियान बन चुका है। उन्होंने ककहा कि सबको पता है कि गंदगी में हमारा भी योगदान है और ऐसा कोई नहीं, जिसको स्वच्छता नापंसद हो। हम समाज की शक्ति को स्वीकार करते हुए सरकार को कम करते चलें, समाज को बढ़ाते चलें तो यह आंदोलन सफल होता जाएगा

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!