0751-4901333

देश

गलती से भी सावन के महीने में न खाएं ये चीजें


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Sunil Rajak    2018-07-27  

नई दिल्ली। भगवान शिव को सावन का महीना बहुत प्रिय है और इस महीने में पूजा करने वालों पर भगवान शिव की खास कृपा बनी रहती है। शास्त्रों में भी सावन में सात्विक भोजन करने की सलाह दी गई है। तभी तो इस महीने में बहुत से लोग प्याज, लहसुन से लेकर मांस, मदिरा का सेवन बंद कर देते हैं। इन चीजों के अलावा और भी चीजें हैं जिन्हें सावन में नहीं खाना चाहिए।

हरी पत्तेदार सब्जियां

यूं तो हरी सब्जियां सेहत के लिए काफी गुणगारी होती है लेकिन सावन में इनसे दूरी बनाने की सलाह दी जाती है। सावन में सब्जी में पित्त बढ़ाने वाले तत्व की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए सब्जी गुणकारी नहीं रह जाता है। यही कारण है कि सावन में साग खाना वर्जित माना गया है। दूसरा कारण यह भी है कि इन दिनों कीट-पतंगों की संख्या बढ़ जाती है और साग के साथ घास-फूस भी उग आते हैं जो सेहत के लिए हानिकारक होते हैं।

बैंगन

बैंगन को भी सावन में खाना उचित नहीं माना गया है। इसका धार्मिक कारण यह है कि बैंगन को शास्त्रों में अशुद्ध कहा गया है। यही वजह है कि कार्तिक महीने में भी कार्तिक मास का व्रत रखने वाले व्यक्ति बैंगन नहीं खाते हैं।वैज्ञानिक कारण यह है कि सावन में बैंगन में कीड़े अधिक लगते हैं। ऐसे में बैंगन का स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सावन में बैंगन खाने की मनाही है।

दूध

सावन में संभव हो तो दूध का सेवन न करें। यही बात बताने के लिए सावन में शिव जी का दूध से अभिषेक करने की परंपरा शुरू हुई। वैज्ञानिक मत के अनुसार इन दिनों दूध पित्त बढ़ाने का काम करता है। अगर दूध का सेवन करना हो तो खूब उबालकर प्रयोग में लाएं। कच्चा दूध प्रयोग में नहीं लाएं। सावन में दूध से दही बनाकर सेवन कर सकते हैं। लेकिन भाद्रपद मास में दही से परहेज रखना चाहिए क्योंकि भाद्रपद में दही सेहत के लिए हानिकारक होता है।

कढ़ी

सावन के दौरान कढ़ी भी खाने की मनाही होती है। कहा जाता है कि कढ़ी में प्याज और दूध से बनने वाली ही का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इसे नहीं खाना चाहिए।

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!