0751-4901333

मनोरंजन

पढ़िए लेखिका माधवी श्रीवास्तव द्वारा कविता जिसका नाम है "चले जा रहे है हम"


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Mayank Kumar Khatri    2018-09-25  

"   चले जा रहे हम "

दिल में एक लौ जली 

बनकर लहर तुम तक पहुँची 

हम -तुम , तुम -हम बहे जा रहे 

वस चले जा रहे ....

कुछ ख्वाब अधूरे से 

कोई चाहत दिल में दबी सी 

ख्वाहिशों का समर्पण किये जा रहें 

वस चले जा रहे ...

कुछ फर्ज़ है कुछ कर्ज़ है 

जिंदगी तो नही बेदर्द  है 

वक्त से समझौते पल पल किये जा रहे 

वस चले जा रहे ...

कुछ दिल की जमीं तेरी 

कुछ दिल की जमीं मेरी 

नाम एकदूजे का लिखकर मिटाते जा रहे 

वस चले जा रहे ..वस चले जा रहे ..वस चले जा रहे 

(माधवी श्रीवास्तव )


Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!