0751-4901333

सेहत

आर्थराइटिस की रोकथाम के लिए चलना-फिरना जरूरी


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Pushpanjali Today    2018-10-13  

ऑर्थराइटिस में जोड़ों में सूजन  जाती हैजिसके कारण मरीज को चलने-फिरने में परेशानी होने लगती है। आज की लाइफस्टाइल में लोग बिल्कुलगतिहीन हो गए हैंजिसका बुरा असर उनके शरीर और हड्डियों पर पड़ता है।यही वजह है कि आर्थराइटिस (खासतौर पर घुटनों का आर्थराइटिसमहामारी का रूप ले रहा है।

उम्र के साथ होने वाला आर्थराइटिसऑस्टियोऑर्थराइटिस कहलाता है। 

भारत में ऑस्टियोऑर्थराइटिस आमतौरपर 55-6 की उम्र में होता है, लेकिन आज कम उम्र में भी लोग आर्थरिटिसऔर अपंगता का शिकार बन रहे हैं।

नोएडा स्थित जेपी हॉस्पिटल के डिपार्टमेंट ऑफ ऑर्थोपेडिक्स एंड जॉइंटरिप्लेसमेंट के एसोसिएट निदेशक डॉक्टर गौरव राठोर का कहना है कि अक्सरलोग ऑस्टियोपोरोसिस और ऑस्टियोआर्थराइटिस को एक ही समझ लेते हैं।ऑस्टियोऑर्थराइटिस में जोड़ों में डीजनरेशन होने लगता है, 


Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!