0751-4901333

देश

खुशखबरी:फटाको की रेटों में आयी गिरावट,अब आएगी ओरिजिनल MRP


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Mayank Kumar Khatri    2018-10-15  

ग्वालियर। अब आपको पटाखा खरीदते वक्त दुकानदार से रेट को लेकर ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी। इस बार पटाखों के पैकेट पर वास्तविक अधिकतम फुटकर मूल्य (एमआरपी) प्रिंट होकर आए हैं। यह रेट जीएसटी की वजह से प्रिंट हुए हैं क्योंकि पटाखा उत्पादक को एमआरपी के मान से ही जीएसटी देना पड़ रहा है।
यही कारण है कि एमआरपी में 40 से 55 फीसदी तक की गिरावट आई है। 2017 तक पटाखा उत्पादक कई गुना अधिक एमआरपी डालकर फुटकर बाजार में भेज देते थे जिससे फुटकर दुकानदार लोगों से पटाखों पर तगड़ा मुनाफा कमाते थे, वह अब नहीं कमा पाएंगे।
अभी तक पटाखों के पैकेट पर एमआरपी से वास्तविक रेट का पता ही नहीं चला पाता था। पटाखा विक्रेता ग्राहक को उनकी एमआरपी के पैसे जोड़कर 15 से 30 फीसदी तक छूट दे देता था। इससे लोगों को पटाखे महंगे मिलते थे, लेकिन केंद्र सरकार ने पटाखों पर 18 फीसदी जीएसटी लगा दिया। जीएसटी की वजह से वास्तविक रेट प्रिंट हुए हैं। ग्राहक चाहे तो इस बार पक्का बिल भी ले सकते हैं जो कि अभी तक अमूमन कोई नहीं लेता था। पटाखे के पैकेट पर एमआरपी के प्रिंट में भी अंतर आया है। 2017 में एमआरपी की साधारण चिट लगी रहती थी, लेकिन इस बार बार कोड के साथ पूरी जानकारी लिखनी पड़ी है।
छूट मिलेगी पर ज्यादा नहीं
डिब्बे पर वास्तविक एमआरपी आने से ज्यादा छूट नहीं मिल सकेगी। मार्केट में प्रतिस्पर्धा होने से दुकानदार एमआरपी पर 7 से 10 फीसदी तक छूट दे सकते हैं। दुकानदारों का कहना है कि ग्राहक को आकर्षित करने के लिए छूट देनी पड़ेगी।
10 फीसदी तक देंगे छूट
पटाखों पर वास्तविक रेट आए हैं। इस वजह छूट 7 से 10 प्रतिशत के बीच ही रह सकती है। दुकानदार जो छूट देगा, उससे लोगों को सस्ते पटाखे मिलेंगे - हरीश दीवान, सचिव आतिशबाजी फुटकर विक्रेता संघ


Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!