0751-4901333

देश

सर्चिंग के दौरान पुलिस जवान प्रेशर बम की चपेट में, दोनों पैर हुए जख्मी, हालत गंभीर


पुष्पांजलि टुडे न्यूज़ का मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Posted By : Sunil Rajak    2018-06-27  

मारजूम- चिकपाल के जंगल में बुधवार की सुबह प्रेशर बम की चपेट में आकर डीआरजी का एक जवान घायल हो गया। दंतेवाड़ा। बस्तर और दंतेवाड़ा के सरहदी इलाके मारजूम- चिकपाल के जंगल में बुधवार की सुबह प्रेशर बम की चपेट में आकर डीआरजी का एक जवान घायल हो गया। उसकी गंभीर स्थिति को देखते सीधे जगदलपुर रिफर कर दिया गया। जवान के दोनों पैर बुरी तरह जख्मी हैं। घायल जवान का नाम धनीराम सोरी है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक मारजूम- चिकपाल के जंगल में बड़े नक्सली लीडरों की मौजूदगी सूचना पर दोनों जिलों की ज्वाइंट फोर्स सर्चिंग पर निकली थी। बीती रात निकली फोर्स बुधवार की सुबह चिकपाल- मारजूम के बीच जंगल में थी। तभी नक्सलियों के बिछाए प्रेशर बम के चपेट में जगदलपुर के डीआरजी जवान धनीराम सोरी आ गया। बम में पैर पड़ते ही धमाके के साथ उसके दोनों गंभीर रूप से जख्मी हो गया। इसके अलावा अन्य अंग भी जख्मी हुए हैं। सूचना पर दंतेवाड़ा से अतिरिक्त बल मौके के लिए रवाना हुई। घायल को जंगल से बाहर निकाल शाम साढ़े चार बजे दंतेवाड़ा लाया गया। लेकिन उसकी स्थिति को देखते डॉक्टरों ने एंबुलेंस में ही प्राथमिक उपचार करते जगदलपुर ले गए। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सर्चिंग पर निकली फोर्स की आधी टीम अभी भी जंगल में है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक दो जिलों की फोर्स नक्सली लीडर जगदीश, देवा और अन्य की तलाश में मंगलवार की रात निकली थी। यह ज्वाइंट फोर्स बस्तर के पखनार, दरभा सहित दंतेवाड़ा के कटेकल्याण और लाइन की थी। इनमें सीआरपीएफ सहित जिला बल, एसटीएफ और डीआरजी के चुनिंदा जवान शामिल थे। बताया जा रहा है कि मुखबिर ने इलाके में डीवीसी मैंबर एवं एरिया कमेटी कमांडर जगदीश, प्लाटून कमांडर देवा और एलओएस कमांडर मंगतू सहित अन्य बड़े लीडर मौजूदगी बताई थी। इनमें देवा और जगदीश पर आठ-आठ लाख तथा मंगतू पर पांच लाख रुपए का इनाम घोषित है। इन पर झीरम सहित इलाके के कई बड़े वारदात में शामिल होने के आरोप हैं। पुख्ता सूचना के बाद दोनों जिलों की ज्वाइंट फोर्स को जंगल में उतारा गया था। नक्सलियों के करीब पहुंचने से पहले ही जवान बम की चपेट में आ गया। बारिश ने रोका हेलीकाप्टर को बीती रात से हो रही लगातार बारिश से बुधवार को हेलीकाप्टर इलाके में नहीं पहुंच पाई। इसके चलते घायल जवान को जंगल से बाहर निकालने के बाद सड़क मार्ग से दंतेवाड़ा लाया। लेकिन फोर्स के डॉक्टरों ने जवान की स्थिति को देखते हुए दंतेवाड़ा में रोकने की बजाए सीधे जगदलपुर के लिए रवाना कर दिया।

Newsletter

Pushpanjali Today offers You to Subscribe FREE!